Google+ Followers

Monday, 4 July 2016

Yeh Khawaish

हर सुबह हर शाम तेरा इंतज़ार किया करते हैं,
हर एक ख्वाब मैं तेरा दीदार किया करते हैं ,
ख्वाहिश तो बहुत हैं जीने की तू जीना सीखा दे,
ये ख्वाहिश पूरी होगी इसी आस मैं जिया करते हैं..

No comments: