Google+ Followers

Monday, 4 July 2016

Mera Panah Dekhta Hu

हजार सवालो कि कश्मकश मे,
मै तेरी राह देखता हुं,
मेरी बेपनाह मोहब्बत को मोहलत दे,
तेरी आँखों मे मेरा पनाह देखता हुं..

No comments: