Google+ Followers

Monday, 4 July 2016

Kismat

ना वो मेरी तक़दीर में ना मैं उसकी किस्मत में
फिर भी ना जाने क्यों दिल उसे अपना बनाने की सोच में लगा रहता है...

No comments: