Google+ Followers

Monday, 4 July 2016

Kisi Kam Ke Na Rhe

क्या हसीन इत्तेफाक़ था, तेरी गली में आने का....!!
किसी काम से आये थे, किसी काम के ना रहे....!!
‪#‎Alone‬ Hearte

No comments: