Google+ Followers

Sunday, 3 July 2016

Kato Ka Bister

“अपने बेगाने हुए दुशमन जमाना हो गया, ज़रा सी बात पर रुसवा फसाना हो गया, मुझे सज़ा के तौर पर मिला काटों का बिस्तर, उसका अंगन फूलो का अशियाना हो गया. “

No comments: