Google+ Followers

Tuesday, 5 July 2016

Insan Khud Se rooth

न वो सपना देखो जो टूट जाये,
न वो हाथ थामो जो छूट जाये,
मत आने दो किसी को करीब इतना,
कि उसके दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये।

No comments: