Google+ Followers

Wednesday, 6 July 2016

हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।

सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली,
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली,
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।

No comments: