Google+ Followers

Tuesday, 5 July 2016

परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया..!!

सिलसिला उल्फत का चलता ही रह गया,
दिल चाह में दिलबर के मचलता ही रह गया,
कुछ देर को जल के शमां खामोश हो गई,
परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया..!!

No comments: