Google+ Followers

Tuesday, 5 July 2016

कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई|

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई|

No comments: