Google+ Followers

Thursday, 7 July 2016

ये जिन्दगी बीत न जाये सुलझाने मे|

तेरे दर्द पर रोता हूँ आज भी,
तू बेदर्द हो गयी ज़माने से,
क्या कमी रह गयी मेरी मुहब्बत मे,
ये जिन्दगी बीत न जाये सुलझाने मे|

No comments: