Google+ Followers

Saturday, 9 July 2016

रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।

वादा करके वो निभाना भूल जाते हैं,
लगा कर आग फिर वो बुझाना भूल जाते हैं,
ऐसी आदत हो गयी है अब तो उस हरजाई की,
रुलाते तो हैं मगर मनाना भूल जाते हैं।

No comments: