Google+ Followers

Friday, 8 July 2016

जहाँ तन्हा मिलोगे तुम तुम्हे रातें रुलायेंगी|

मेरी यादें मेरा चेहरा मेरी बातें रुलायेंगी,
हिज़्र के दौर में गुज़री मुलाकातें रुलायेंगी,
दिनों को तो चलो तुम काट भी लोगे फसानों मे,
जहाँ तन्हा मिलोगे तुम तुम्हे रातें रुलायेंगी|

No comments: