Google+ Followers

Tuesday, 5 July 2016

Apni Sunata Hu

अब ये न पूछना की..
ये अल्फ़ाज़ कहाँ सेलाता हूँ,
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के,
कुछ अपनी सुनाता हूँ|

No comments: