Google+ Followers

Saturday, 2 July 2016

Aashiuqi

"हुए बदनाम मगर फिर भी न सुधर पाए हम, . फिर वही शायरी, फिर वही इश्क, फिर वही तुम...

No comments: